सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जोड़ों का दर्द के लिए 15 बेस्ट इलाज | joint pain treatment in Hindi.

जोड़ों का दर्द के लिए 15 बेस्ट इलाज (jodo ka dard) | joint pain treatment in Hindi - आज के समय में जोड़ों के दर्द की समस्या एक बहुत ही आम समस्या कही जा सकती है।
क्योंकि जोड़ों में दर्द आपको कभी भी किसी भी समय हो सकता है।
इसके लिए कई सारे कारण जिम्मेदार हो सकते हैं।
मुख्यत जोड़ों में दर्द की यह परेशानी बच्चों व युवाओं की अपेक्षा वृद्ध लोगों में अधिक देखी जा सकती है।
वृद्धावस्था में अक्सर लोग घुटनों के दर्द और कमर दर्द जैसी परेशानियां ज्यादा झेलते हैं।
जिसके लिए अक्सर पेन किलर्स का ही सहारा लिया जाता है।
लेकिन शायद आप बिल्कुल भी इस बात से अवगत नही हैं कि ये दर्द निवारक दवाएं केवल आपको अस्थाई रूप से दर्द से मुक्त करती हैं और स्थाई रूप से कई समस्याएं खड़ी कर देती हैं।
अतः दर्द निवारक दवाओं की जगह जहां तक सम्भव हो प्राकृतिक चीजों के इस्तेमाल से अपने आप को स्वस्थ रखने की कोशिश करें।
(और पढ़ें : घुटनों के दर्द के लिए योगा)
Jodo ka dard
Jodo ka dard.
इस लेख में हम बात करने वाले हैं 15 ऐसे आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खों की जो न केवल आपको दर्द से ही राहत देगें बल्कि आपके जोड़ों से संबंधित तमाम परेशानियों के लिए बहुत ही अच्छे और कारगर उपचार हैं।

जोड़ों का दर्द के लिए 15 बेस्ट इलाज | joint pain treatment in Hindi.

(Jodo ka dard) जोड़ों में दर्द के कारण (Causes of joint pain in hindi)

जोड़ों में दर्द की समस्या के लिए अनेकों कारण जिम्मेदार हो सकते हैं।
जो आपको किसी भी उम्र में इस समस्या से ग्रस्त होने के लिए मजबूर कर सकते हैं।
जिनमें से मुख्य हैं -
  • मोटापा
  • जोड़ों का संक्रमित होना
  • पुरानी चोट
  • बोंस का वीक हो जाना
  • कार्टिलेज का घिस जाना
  • भोजन में पोषकों की कमी
  • भोजन की गलत आदतें
  • उम्र का बढ़ना
  • गलत जीवनशैली और बेढंगी दिनचर्या
  • फिजिकल वर्क बहुत ज्यादा या बहुत ही कम
  • मसल्स में गलत तरीके से खिंचाव
आदि सभी कारण एक व्यक्ति को जोड़ों में दर्द की समस्या से ग्रस्त बना सकते हैं।
(और पढ़ें : कमर दर्द का इलाज)

जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi | jodo ke dard ka ilaj.

1. नीलगिरी और तिल के तेल से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

जोड़ों में दर्द की समस्या को परमानेंटली खत्म करने के यह नुस्खा बेहद चमत्कारी और प्रभावी है।
इसकी मदद से आपको सभी प्रकार के जोड़ों के दर्द आदी से छुटकारा मिलने के साथ यह यूरिक एसिड और आर्थराइटिस जैसी गंभीर समस्याओं में भी आराम मिलेगा।
इसको तैयार करने के लिए आपको कई चीजों की जरूरत होगी - 50 ग्राम तिल का तेल, 2 चम्मच नीलगिरी तेल, 15 से 20 लौंग, 6 से 8 इलायची, दो चम्मच दालचीनी, 2 चम्मच मोम, 1 चम्मच अदरक, 3 से 4 तेज पत्ते, 2 चम्मच मेथीदाना, 1 चम्मच कपूर, 2 चम्मच लहसुन के टुकड़े, 1 चम्मच अजवायन, आदि की।
यह तेल तैयार करने के लिए बताई गई मात्रा में तिल का तेल लेकर इसे मध्यम आंच पर गर्म करें।
इसके बाद इसमें दालचीनी, अदरक और लौंग डाल कर अच्छे से पकाएं।
एक से दो मिनट बाद इसमें मेथीदाना, लहसुन, इलायची, अजवाइन, तेज पत्ते, आदि डाल कर चार से छह मिनट तक पकाएं।
जब पकाएं गई सारी चीजें हल्के काले भूरे रंग की हो जाएं तब इसे हल्का ठंडा करके छान लें।
इसके बाद वापस इसे बिल्कुल धीमी आंच पर रखें और इसमें कपूर, नीलगिरी का तेल और मोम डाल दें।
जब ये सारी चीजें इसमें ठीक से मिक्स हो जाएं तब इसे कांच की शीशी में भरकर रख लें।
ठंडा होने पर यह एक बाम के रूप में तब्दील हो जाएगा जो जोड़ों के दर्द में एक बेहद ही प्रभावी दवा के रूप में काम करेगा।
आप इसे कभी भी किसी भी समय उपयोग में ले सकते हो।
लेकिन जब भी आप इसका प्रयोग करें तो प्रयोग के बाद दर्द वाली जगह को गरम कपड़े की मदद से जरूर बांध लें।
इससे दर्द में बहुत जल्दी आराम मिलेगा और जोड़ों के दर्द की यह समस्या कुछ ही दिनों में पूरी तरह आसानी से खत्म हो जाएगी।

2. मैथी से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

मैथीदाने का इस्तेमाल करके भी आप होने वाले जोड़ों के दर्द में राहत पा सकते हो।
मैथी आपको अपने ही घर में आसानी से मिल जाएगी।
जोड़ों में दर्द के लिए आप मैथीदाने को कई प्रकार से इस्तेमाल कर सकते हो।
इसके लिए मैथीदाने का काढ़ा भी तैयार किया जा सकता है।
साथ ही आप इसका ज्यूस बनाकर भी पी सकते हो, या इसको भिगोकर पेस्ट बनाकर मसाज भी की जा सकती है।
साथ ही इसे भिगोकर शहद आदि के साथ भी खाया जा सकता है।
हर प्रकार से मैथीदाना दर्द निवारक दवा की तरह काम करता है।
और धीरे धीरे जोड़ों से जुड़ी तमाम परेशानियों को पूरी तरह साफ कर देता है।

3. लहसुन से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

लहसुन भी पुराने समय से ही जोड़ों के दर्द जैसी समस्याओं में रामबाण औषधि की तरह काम करता है।
इसके प्रयोग से आपको बहुत जल्दी और प्रभावी सुधार देखने को मिलता है।
जोड़ों के दर्द के लिए आप इसे कच्चा भी निगल सकते हो या इसे भूनकर भी खाया जा सकता है।
साथ ही लहसुन को तिल या सरसों के तेल में पकाकर भी इसका मसाज ऑयल तैयार किया जा सकता है।
यह ऑयल आपको जोड़ों के दर्द जैसी समस्याओं में तुरंत आराम देता है।
साथ ही जुकाम, खांसी आदि के लिए भी एक अचूक दवा है।
(और पढ़ें : घुटनों के दर्द की दवा)

4. सेब के सिरके से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

सेब के सिरके में ऐसे कई सारे गुण मौजूद होते हैं जिनसे आपको दर्द में राहत मिलने के साथ साथ त्वचा के लिए भी बेहद फायदेमंद है।
नियमित रूप से सुबह शाम सेब के सिरके का सेवन करें इससे जोड़ों के दर्द की समस्या पूरी तरह खत्म हो जाती है।

5. कनेर के पत्तों से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

कनेर के ताजा पत्तों का इस्तेमाल जोड़ों में दर्द, सूजन, ऐंठन, आर्थराइटिस जैसी कई समस्याओं लिए एक बहुत ही बेहतर आयुर्वेदिक दवा के तौर पर किया जय है।
जोड़ों के दर्द के लिए कनेर के पत्तों का इस्तेमाल आप कई प्रकार से कर सकते हो।
अगर आपके जोड़ों में सूजन और दर्द है तो उसके लिए आप सबसे पहले कनेर के पत्तों को साफ करके उन पर गाय का घी या तिल का तेल लगाकर गर्म करके दर्द वाली जगह पर लगा लें और ऊपर से गर्म कपड़ा बांध लें।
इससे दर्द में तुरंत राहत मिलती है और सूजन भी बहुत जल्दी ठीक हो जाती है।
चाहो तो इसकी जगह आप कनेर के पत्तों को पीस कर बारीक पेस्ट बना लें और उसे छान कर रस निकाल लें।
इसके बाद सरसों या तिल के तेल में इस रस को पकाकर एक मसाज ऑयल तैयार करें।
यह भी जोड़ों के दर्द के लिए एक बेहतर औषधि कहलाती है।

6. योगराज गुग्गुल से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

योगराज गुग्गुल आपको मार्केट में आसानी से मिल जाती है।
यह पाउडर और टैबलेट फॉर्म में मिलती है।
जोड़ों के दर्द से परेशान मरीजों के लिए योगराज गुग्गुल भी एक अचूक दवा की तरह काम करती है।
रोज सुबह शाम एक - एक गोली योगराज गुग्गुल की दूध या पानी से साथ सेवन करें।
इससे जोड़ों से जुड़ी सभी प्रकार की समस्याएं दूर हो जाती हैं।
Jodo ka dard
Jodo ka dard.

7. आंक की जड़ से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

आंक के जड़ व पत्ते भी दर्द के शामक हैं।
इनका इस्तेमाल आप बवासीर जैसी गंभीर बीमारी को उपचारित करने के लिए भी कर सकते हो।
आयुर्वेद में बवासीर के लिए आंक के पत्तों का बहुत ही अच्छा परिणाम है।
जोड़ों के दर्द के लिए आंक की जड़ को नमक के साथ उबाल कर दर्द वाले जोड़ की अच्छे से मसाज करें।
इसके अतिरिक्त पत्तों के पीछे की तरफ गाय का घी लगाकर उन्हें हल्की आंच पर गर्म करें।
हल्के गर्म पत्तों को जोड़ों पर उल्टी तरफ रख कर कपड़े से बांध लें।
इससे जोड़ों के दर्द में बहुत जल्दी आराम मिलता है और समय के साथ साथ यह समस्या पूरी तरह खत्म हो जाती है।

8. फिटकरी से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

जब भी आपको जोड़ों में दर्द हो चाहे वह किसी नस के खिंचाव की वजह से हो या किसी मोच या जमक की वजह से हो।
उसके लिए फिटकरी को पीस कर गुड में मिला लें और दोनों को अच्छे से गूंथ कर दर्द वाली जगह पर फैला कर बांध लें।
इसकी मदद से आपको हर प्रकार के जोड़ों के दर्द में राहत मिलेगी।
इसे आप कभी भी किसी भी समय प्रयोग में ले सकते हो।
लेकिन अच्छे परिणाम के लिए रात को सोते समय इस्तेमाल करें।

9. गिलोय से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

आयुर्वेद में गिलोय को एक बहुत अच्छी और रामबाण औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।
गिलोय आपकी हड्डियों को प्राकृतिक रूप से मजबूती प्रदान करने के साथ साथ आर्थराइटिस, यूरिक एसिड और जोड़ों की तमाम समस्याओं के लिए रामबाण बूटी की तरह काम करेगी।
आप घर पर भी इसकी ठंडी का ज्यूस बनाकर ले सकते हो या बाजार में मिलने वाले गिलोय सत्व का भी उपयोग कर सकते हो।

10. अदरक से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

अदरक एक बहुत ही अच्छी दर्द निवारक दवा है यदि आप जोड़ों की समस्याओं से परेशान हैं तो निश्चित रूप से अदरक का जरूर इस्तेमाल करें।
आप चाहे तो इसका काढ़ा बनाकर भी पी सकते हो।
साथ ही इसका पेस्ट बनाकर दर्द वाली जगह पर रखने से ठंडक मिलती है और दर्द में आराम आता है।
इसके अलावा अदरक का मसाज ऑयल बनाकर जोड़ों पर इसकी मसाज भी की जा सकती है।

11. हल्दी से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

आर्थराइटिस या गठिया, यूरिक एसिड, जोड़ों में दर्द और पुरानी चोट या अंदरूनी घाव व ज़मक आदि में हल्दी वाला दूध पिया जाता है।
हल्दी में संक्रमण रोधी और दर्द निवारक जैसे अनेकों गुण पाए जाते हैं।
इन्हीं गुणों की वजह से इसका आयुर्वेद में बहुत ही अच्छा स्थान है।
अगर आप जोड़ों के दर्द से परेशान हो तो हल्दी वाले दूध का सेवन जरूर करें।
इसके अलावा हल्दी से मसाज ऑयल भी तैयार किया जा सकता है।
जिससे सूजन, दर्द और ऐंठन में शुकून मिलता है।
कभी भी गर्भवती महिला को हल्दी वाले दूध का सेवन न कराएं साथ ही यदि गर्मी ज्यादा है तो भी आप इसका इस्तेमाल न करें।
(और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के लक्षण)

12. नमक से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

अगर आप जोड़ों के दर्द की समस्या से परेशान हो या आपको गठिया या यूरिक एसिड है तो नित्य पानी में नमक डालकर स्नान करें।
साथ ही दर्द वाली जगह पर नमक की सेंक भी की जा सकती है।
जोड़ों के दर्द को शांत करने के लिए नमक बहुत ही अहम भूमिका निभाता है।

13. खैरी के गोंद से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

अगर आपको हड्डियों या जोड़ों से संबंधित किसी भी तरह की समस्या है तो आप खैरी के गोंद और कतीरा का भी इस्तेमाल कर सकते हो।
कतीरा और खैरी के गोंद को बराबर मात्रा में लें और घी में सेंक लें।
इसके बाद इन्हे बारीक पीस कर गेहूं के आटे के साथ लड्डू बना लें।
नियमित रूप से सुबह शाम खाली पेट इन लड्डुओं का सेवन करे।
चंद दिनों में ही बड़ी से बड़ी कमजोरी और हड्डियों से जुड़ी तमाम समस्याएं चुटकियों में खत्म हो जाएंगी।
Jodo ka dard
Jodo ka dard.

14. गाय के घी से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए आप देसी गाय के घी को दूध में मिलाकर पी सकते हो।
इसके अलावा इससे जोड़ों की मसाज भी की जा सकती है।
हड्डियों और जोड़ों को पुष्ट बनाने के लिए यह सबसे बेजोड़ और सस्ती दवा मानी जाती है।

15. अरंडी के तेल से करें जोड़ों का दर्द का इलाज | joint pain treatment in Hindi.

जोड़ों में यदि भयंकर पैन है तो इससे राहत पाने के लिए आप अरंडी के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हो।
अरंडी के तेल से मसाज करने पर इस समस्या में आराम मिलता है तथा सूजन व ऐंठन भी ठीक हो जाती है।
आर्थराइटिस, घुटनों के दर्द, यूरिक एसिड और जोड़ों भयंकर तकलीफ से छुटकारा पाने के लिए अरंडी के बीजों का हलवा बनाकर भी खाया जा सकता है।
यह गठिया, यूरिक एसिड और जोड़ों के दर्द के एक प्रभावी अचूक दवा है।

जोड़ों का दर्द से बचाव और सावधानियां (prevention of joint pain in Hindi) -

अगर आप लंबे समय से जोड़ों की इस समस्या से परेशान हो तो पहले आपका यह जानना जरूरी है कि आपमें इसकी शुरुआत किस वजह से हुई है।
ताकि आप पहले उन कारणों को खत्म कर सके जो आपको इसके लिए मजबूत बनाते हैं।
साथ ही कुछ सामान्य से बिंदु है जिन पर अमल जरूर करें।
  1. अपनी दिनचर्या और खानपान हमेशा स्वस्थ रखें।
  2. हमेशा बैठ कर खाए व पिएं साथ ही पानी ऊपर मुंह करके गटकने की बजाय गिलास से पिएं।
  3. शुद्ध शाकाहारी बनें भोजन में तरल पदार्थों को बढ़ावा दें और बाजारू खाद्य खाने से बचें।
  4. जरूरत से ज्यादा काम और आराम दोनो ही घातक परिस्थितियां है इन्हे जरूर संतुलित करें।
  5. नियमित रूप से योग प्राणायाम और नंगे पैर सैर सपाटा जरूर करें।
अगर आप इस संदर्भ में जानकारी रखते हो तो हमारे साथ जरूर साझा करें - (jodo ka dard) जोड़ों के दर्द का इलाज, joint pain treatment in Hindi, जोड़ों का दर्द के कारण, जोड़ों का दर्द का उपाय, जोड़ों का दर्द की दवा पतंजलि, जोड़ो के दर्द की आयुर्वेदिक दवा,

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

योग और मुद्राओं से करें घुटनों के दर्द (knee pain) का इलाज।

योग प्राणायाम और मुद्राओं से करें घुटनों के दर्द का इलाज (ghutno ka dard ke liye yoga) - घुटनों के दर्द की समस्या प्राय अधेड़ उम्र के बाद ही महिला व पुरुषों को परेशान करती है।
लेकिन बहुत से कारण ऐसे भी हैं जिनके चलते आप कभी भी इस समस्या के शिकार हो सकते हैं।
घुटनों में दर्द की समस्या महिलाओं में रजोनीवृती के बाद से शुरू होने लग जाती है वहीं पुरुषों में यह प्राय 50 की ऐज में आकर शुरू होती है।
अधिकतर लोग घुटनों की इस समस्या को शांत करने के लिए नियमित रूप से पेन किलर्स का सहारा लेते हैं।
लेकिन यह लंबे समय तक सही नहीं हो सकता है क्योंकि ये दवाएं जितना आपको फायदा देती हैं उससे दुगना नुकसान भी देती हैं।
(और पढ़ें : घुटनों के दर्द का अचूक इलाज)
अतः पेन किलर्स की बजाय प्राकृतिक चीजों को अपनाए।
जिससे आपको कोई नुकसान भी नहीं होगा और घुटनों में दर्द की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा भी पाया जा सकता है।
आज इस पोस्ट के अंदर हम आपको बताएंगे घुटनों के दर्द की समस्या से हमेशा के लिए किस प्रकार निजात पाई जा सकती है, वो भी बिना किसी दवा और औषधियों के।
योग प्राणायाम और मुद्राओं से करें घुटनों के दर्द का…

सफेद दाग (saded daag) के 10 बेस्ट नए इलाज पतंजलि और दुआ।

सफेद दाग (saded daag) के 10 बेस्ट नए इलाज पतंजलि और दुआ - दाग जिसे लयुकोडर्मा या विटिलिगी के नाम से भी जाना जाता है।
यह एक प्रकार की स्किन डिजिज है जिसमें त्वचा पर चकत्तों के रूप व्हाइट कलर के धब्बे बन जाते है।
यह समस्या पुरुषों की तुलना में महिलाओं व बच्चों में अधिक पाई जाती है।
अभी तक इसके निश्चित कारण का पता नहीं चल पाया है।
विशेषज्ञों का कहना है कि त्वचा में मेलेनोसाइट जो त्वचा के रंग का निर्धारण करती हैं उनके खत्म होने की वजह से यह समस्या होती है।
लेकिन यह पूरी तरह ज्ञात नहीं है कि मेलेनोसाइट्स किस वजह से खत्म होते हैं।
अंदाजन इसके लिए कुछ कारण जिम्मेदार हो सकते हैं जैसे -
किसी प्रकार का कोई इम्यून डिसऑर्डर होनाविरोधी वस्तुओं का सेवन करनाज्यादा गरिष्ठ भोजन करनापेट ठीक तरह से साफ ना होनाकिसी चीज से एलर्जीघातक विकिरणों या केमिकल्स के संपर्क में आना।धूप में ज्यादा समय व्यतीत करना। ये इसके कुछ कारण हो सकते हैं।
आप सभी को पता है कि एलोपैथिक दवाओं में सफेद दाग का कोई निश्चित इलाज नहीं है।
लेकिन आयुर्वेद में इसके लिए कई बेहतर और प्रभावी इलाज हैं।
(और पढ़ें : बवासीर का अचूक इलाज)
(और पढ़ें…